Feb 7, 2012

मिटा दें

आ कर बात ,
तिमिर की
उजाले तो हैं ही
यहीं हैं
दीप जला लें वहां
अँधेरे छुपे हैं जहाँ
ढूंढ टुकड़े तिमिर
वहीँ मिटा दें
दीप जला दें !

No comments: