If you’re on Twitter, go ahead and follow me and say hello.

Feb 11, 2012

कभी तुम याद आते हो

कभी तुम याद आते हो
कभी तुम यूँ रुलाते हो
ये ऑंखें आंख से मिलकर
नया रिश्ता बनाती हैं /
कहीं तुम दूर यादों में
कहीं तुम पास बाँहों में
ये ऑंखें कैद करती हैं
ये आँखें भूल न पायें /
कहीं से चाह उमड़ती है
कहीं तितली सी उडती है /
कहीं वो प्यार की बदली
बिना बरसे घुमड़ती है /
बिना गरजे ही कहती है
तुम्हारी याद आती है
मुझे दिल में सताती है
वो दिल में छा ही जाती है /
ये दिल यूँ मचलता है
समंदर लहरों से मचले
ये आँखें यूँ बरसती हैं
की बादल भी बरसता है //
कभी तुम याद आते हो
कभी तुम यूँ रुलाते हो //

3 comments:

Seema said...

If I am not wrong you are my Neeraj chacha from Saharanpur...I am Brahmajeet Sharma's daughter Seema(ruby).You can reach me at www.art.seema.biz

neeraj said...

oh yes .....I am ...surprise meet :)

babanpandey said...

बहुत सुन्दर नीरज जी।// मेरे भी ब्लॉग पर पधारे

Followers