Feb 16, 2012

न तू अधूरी

न तू अधूरी
न मैं अधूरा
किन्तु कहाँ कैसे हम
कहें स्वयं को पूरा ?
कहीं ,कहीं तो कुछ है
नहीं ,नहीं है मुझ में
कहीं खोजता सा
कहीं खींचता सा ,
नया न कुछ बनाता
नया न कुछ कहता ,
फिर उसी मिलन से
फिर वहीँ समाता /
प्रकृति के नियम सा
फिर रचूँ अधूरा ,
न तू उधर पूरी
न मैं इधर पूरा/

5 comments:

शर्माजी का ब्लॉग said...

वाह !!!!!!!!
अद्भुत भाई नीरज जी कुछ हमें भी सिखा दो

Kiran Patnaik said...

विरह राग है या मिलन की बेला ? अब दोनों हो जाओ पूरे. बन जाओ एक जिस्म-एक जान.

neeraj said...

:)

Swati Tyagi said...

Khoob kaha he

Swati Tyagi said...

Khoob kaha he