Follow by Email

If you’re on Twitter, go ahead and follow me and say hello.

Feb 21, 2012

मै नशे में

शब्दों को बुन कर
भावों को चुनकर
लिखूं एक तराना
वही वह पुराना /
दो प्रेमियों की
फिर वो कहानी
न मेरी जुबानी
न तेरी जुबानी /
मस्ती तुम्हारी
कुछ मस्त में भी ,
बसे यहाँ बस्ती
वही प्रेम मस्ती /
रुनझुन सी पायल
करे दिल को घायल /
नज़र ना हटे ये
ये आँखों का जादू
मजबूर तुम हो
मजबूर मै हूँ /

जहाँ तुम नशे में
वहीँ मै नशे में //

4 comments:

रविकर said...

नशा नशावन थी कभीं, आज नशे में धुत्त ।

चूम नशीनी को चढ़ा, प्रेम परम उन्मुक्त ।।

रविकर said...

दिनेश की टिप्पणी - आपका लिंक

dineshkidillagi.blogspot.com

Isha said...

नीरजजी, ये नशा आनंददायक है पर यथार्थ का क्या?????

neeraj said...

:)

Featured Post

नेता महान

मै भारत का नेता हूँ  नेता नहीं अभिनेता हूँ  चमचे चिपकें जैसे गोंद  धोती नीचे हिलती तोंद // मेरी तोंद बढे हो मोटी  सारे चेले सेंक...