Mar 7, 2012

"इस होली तू लगती न्यारी "

इस होली तू लगे अनूठी
रंग खेले ना अब क्यूँ रूठी ?
ला गुलाल अब खेलूं होली
मस्त हुई रंगों की टोली
धूलिवंदन बिन भंग अधूरा
तू मद मस्त रंग है पूरा /
ला टेसू रंग ,सारा रंग दूँ
अंग बचे ना ,अंगिया रंग दूँ
उधर कहीं तू छुपती कब तक
पिचकारी से बचती कब तक ?
बच्चे दूर वहां किलकारी
अब रंग रंगी लगी तू प्यारी
ना भाग कहीं तू खा पिचकारी
इस होली तू लगती न्यारी //

7 comments:

anjusambhi said...

pyari , nyari si rango mein rangi kavita ....

ana said...

holi ki shubhakamnaye

Neeraj Tyagi said...

बहुत बहुत धन्यवाद ! आपको भी :)

Mithilesh said...

बहुत दिलचस्प अभिव्यक्ति....

आपको सपरिवार रंगपर्व होली पर फागुनी शुभकामनायें !

Neeraj Tyagi said...

धन्यवाद ! आपको भी :)

bikharemoti said...

अच्छी कविता है ...

Neeraj Tyagi said...

thnx

Featured Post

नेता महान

मै भारत का नेता हूँ  नेता नहीं अभिनेता हूँ  चमचे चिपकें जैसे गोंद  धोती नीचे हिलती तोंद // मेरी तोंद बढे हो मोटी  सारे चेले सेंक...