Feb 11, 2012

कभी तुम याद आते हो

कभी तुम याद आते हो
कभी तुम यूँ रुलाते हो
ये ऑंखें आंख से मिलकर
नया रिश्ता बनाती हैं /
कहीं तुम दूर यादों में
कहीं तुम पास बाँहों में
ये ऑंखें कैद करती हैं
ये आँखें भूल न पायें /
कहीं से चाह उमड़ती है
कहीं तितली सी उडती है /
कहीं वो प्यार की बदली
बिना बरसे घुमड़ती है /
बिना गरजे ही कहती है
तुम्हारी याद आती है
मुझे दिल में सताती है
वो दिल में छा ही जाती है /
ये दिल यूँ मचलता है
समंदर लहरों से मचले
ये आँखें यूँ बरसती हैं
की बादल भी बरसता है //
कभी तुम याद आते हो
कभी तुम यूँ रुलाते हो //

Featured Post

नेता महान

मै भारत का नेता हूँ  नेता नहीं अभिनेता हूँ  चमचे चिपकें जैसे गोंद  धोती नीचे हिलती तोंद // मेरी तोंद बढे हो मोटी  सारे चेले सेंक...