Jan 30, 2012

राम

राम कथा हैं ,
राम पुरुष हैं ,
राम चरित हैं
राम बनवास /
रावण वध को
त्याग तपस्या ,
जन जन की
वोह बन गए आस /
भ्रात्र प्रेम का
मात्र प्रेम का
गुरु भक्ति ,
आदर्श राज्य का /
पशु पक्षी भी
बच न पायें
राम प्रेम को
भूल न पायें /
दहन हुआ फिर
राक्षसता का
देवत्व विजित फिर
स्वर्ग सुगंध सा
संहारों से मुक्ति देते
राम हमारे ,
सब सुख देते
सब सुख देते /

4 comments:

neeraj said...

(मेरे एक राम भक्त सहयोगी की सलाह पर मैंने यह आज की कविता लिखी है )

babanpandey said...

वाह राम /
राम है तुलसी
राम है गीता
मेरे ब्लॉग पर भी पधारें

डॉ॰ मोनिका शर्मा said...

पशु पक्षी भी
बच न पायें
राम प्रेम को
भूल न पायें

Bahut Sunder....

Anonymous said...

बहुत सुन्दर ......
|| जय सियाराम ||