Feb 16, 2012

न तू अधूरी

न तू अधूरी
न मैं अधूरा
किन्तु कहाँ कैसे हम
कहें स्वयं को पूरा ?
कहीं ,कहीं तो कुछ है
नहीं ,नहीं है मुझ में
कहीं खोजता सा
कहीं खींचता सा ,
नया न कुछ बनाता
नया न कुछ कहता ,
फिर उसी मिलन से
फिर वहीँ समाता /
प्रकृति के नियम सा
फिर रचूँ अधूरा ,
न तू उधर पूरी
न मैं इधर पूरा/

5 comments:

शर्माजी का ब्लॉग said...

वाह !!!!!!!!
अद्भुत भाई नीरज जी कुछ हमें भी सिखा दो

Kiran Patnaik said...

विरह राग है या मिलन की बेला ? अब दोनों हो जाओ पूरे. बन जाओ एक जिस्म-एक जान.

neeraj said...

:)

Swati Tyagi said...

Khoob kaha he

Swati Tyagi said...

Khoob kaha he

Featured Post

नेता महान

मै भारत का नेता हूँ  नेता नहीं अभिनेता हूँ  चमचे चिपकें जैसे गोंद  धोती नीचे हिलती तोंद // मेरी तोंद बढे हो मोटी  सारे चेले सेंक...