Feb 7, 2012

अस्तित्व

आ !
शोर मचा लें ,
दखें जो सब तुझे
तेरे अस्तित्व को
लगे तू भी एक रंग है
उसी इन्द्र धनुष का
व्योम में दृश्यमान !
अभी था
फिर होगा
फिर न होगा /