Jan 5, 2013

नवागत का स्वागत

नवागत का स्वागत 
रहें सदा जाग्रत 
फूलें फलें बना रहे हर्ष 
ऐसा रहे यह नव वर्ष /
भूलें जो हुआ व्यतीत 
सबक लें ,बनें कालातीत //
मन में रहे प्रार्थना 
करते रहें उपासना 
पुष्प गुच्छ से रहें पल्लवित 
नए साल में रहें उल्लसित //
श्रेष्ठता के नित नए प्रयास 
गिर कर उठें ,फिर बढ़ें 
छोड़ें ना अपनी आस //
महिलाएं हैं आन बान 
भारत वर्ष की शान ,
उनको दें सम्मान और प्यार 
फूले फले बगिया ,रहे सुगन्धित बयार //

5 comments:

Kalipad "Prasad" said...

सुन्दर रचना , शुभकामनायों के साथ आपका भी स्वागत है
नई पोस्ट में :" अहंकार " http://kpk-vichar.blogspot.in

sushma 'आहुति' said...

बहुत खुबसूरत रचना अभिवयक्ति.........

Isha said...

khoobsurat rachna jaisa ho aapka naye saal !!!!!!!!

Anuj Tyagi said...

बहुत सही लिखा है ...

manu rs said...

niceeee

Featured Post

नेता महान

मै भारत का नेता हूँ  नेता नहीं अभिनेता हूँ  चमचे चिपकें जैसे गोंद  धोती नीचे हिलती तोंद // मेरी तोंद बढे हो मोटी  सारे चेले सेंक...