If you’re on Twitter, go ahead and follow me and say hello.

Feb 3, 2012

रहस्य ही सौंदर्य

आज तुम फिर बिसराओगे ,
समझते हुए भी न समझोगे ,
कहीं दूर टकटकी लगाओगे,
विशाल क्षितिज के उस पार,
दृष्टि तुम्हारी भेदती सी ,
अनंत काल के रहस्य को !
किन्तु फिर वही,फिर वही
झंझावातों में फंसकर ,
तुम फिर अनवरत प्रयासरत ,
अपनी स्थितप्रज्ञता के लिए ,
वही गीता या योग वशिष्ठ ,
तुम्हारे झरे स्वप्नों को
थामते-थामते ,
फिर वही सशक्त ,
रहस्यमय शब्द !
क्योंकि रहस्य ही
तो पूर्ण सौंदर्य है !

7 comments:

आशुतोष की कलम said...

क्योंकि रहस्य ही
तो पूर्ण सौंदर्य है !
रहस्यमयी सौन्दर्य का सुन्दर वर्णन

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक (उच्चारण) said...

बहुत अच्छी प्रस्तुति!
इस प्रविष्टी की चर्चा कल रविवार के चर्चा मंच पर भी होगी!
सूचनार्थ!

neeraj said...

thnx :)

डॉ॰ मोनिका शर्मा said...

Vicharniy....Bahut Sunder

Piush Trivedi said...

Nice Blog , Plz Visit Me:- http://hindi4tech.blogspot.com ??? Follow If U Lke My BLog????

neeraj said...

आप सभी को बहुत बहुत धन्यवाद ! मोनिका जी ,रूपचंद जी , आशुतोष जी :)

Neeraj Tyagi said...

धन्यवाद !पियूष जी

Followers